Jigs Solanki

To enhance your exam preparation, We suggest you to download all Books and notes. we are updating important PDF every day. These PDF will help you a lot in your competitive exams.

Monday, 12 June 2017

भारत में प्रथम Bharat Me Pratham

1. भारत का प्रथम दूरदर्शन केंद्र: नई दिल्ली

सबंधित जानकारी: 15 सितम्बर 1959 को दूरदर्शन की शुरूआत हुई इस का पहला केंद्र नई दिल्ली में स्थापित किया गया जल्द ही यह डी.डी. के नाम से प्रसिद्ध हो गया दशकों तक डी.डी. को टेलीविज़न पर्याय के रूप में जाना जाता रहा

2. दूरदर्शन का पहला धारावाहिक: हम लोग

सबंधित जानकारी: हालांकि दूरदर्शन की शुरूआत 1959 में हो चुकी थी लेकिन इस पर लोगों के मनोरंजन के उदेश्य से पहला धारावाहिक 7 जुलाई 1984 को प्रसारित करना आरम्भ किया गया डेढ़ वर्ष तक चलने तथा 154 प्रकरणों के बाद “हम लोग” कार्यक्रम को 17 दिसम्बर 1985 को बंद कर दिया गया इस के बाद बुनियाद, ये जो है ज़िन्दगी, महाभारत, रामायण तथा शक्तिमान जैसे धारावाहिकों ने लोगों का दशको तक मनोरंजन किया


3. सर्वप्रथम दूरदर्शन पर रंगीन कार्यक्रम का प्रसारण: 15 अगस्त 1982

सबंधित जानकारी: भारत के स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त 1982 को दूरदर्शन द्वारा रंगीन कार्यक्रमों का प्रसारण शुरू कर दिया गया इस के अंतर्गत पहला कार्यक्रम उस समय देश की प्रधानमंत्री रही इंदिरा गाँधी का “स्वतंत्रता दिवस भाषण” था इसी के साथ देश की लगभग 90 प्रतिशत जनसँख्या तक दूरदर्शन की पहुँच हो चुकी थी


4. प्रथम फ़िल्म: राजा हरीशचन्द्र

सबंधित जानकारी: सन 3 मई 1913 में बनी राजा हरिश्चंद्र को भारत की प्रथम फ़िल्म होने का गौरव प्राप्त है इस फ़िल्म के निर्माता दादा साहेब फाल्के थे जो की भारतीय फ़िल्म जगत के पितामह माने जाते हैं यह एक मूक (ना बोलने वाली) फ़िल्म थी तथा मराठी सिनेमा तथा कलाकारों की बदौलत बनी थी इसी कारण यह मराठी सिनेमा की सर्वप्रथम फ़िल्म भी मानी जाती है


5. प्रथम बोलती फ़िल्म: आलम आरा

सबंधित जानकारी: 14 मार्च 1931 को प्रदर्शित हुई फ़िल्म आलम आरा भारत की पहली बोलती फ़िल्म थी जो कि पहली हिन्दी फ़िल्म भी कहलाती है क्योंकि इस से पहले बनी सभी भारतीय फ़िल्में मूक थी इस लिए उनकी कोई भाषा नहीं थी आलम आरा का अर्थ होता है “विश्व की रोशनी” प्रेम कथा पर आधारित इस फ़िल्म को बेहद लोकप्रियता मिली उस समय चालीस हज़ार की लागत में बनी इस फ़िल्म का निर्देशन अर्देशिर ईरानी ने किया था


6. प्रथम अभिनेत्री: दुर्गाबाई कामत

सबंधित जानकारी: फ़िल्म जगत में जब फ़िल्मों की शुरूआत हुई तब पुरूष अभिनेता ही स्त्री रूप बना कर अभिनय करते थे दादा साहेब फाल्के ने सन 1913 अपनी दूसरी फ़िल्म “मोहिनी भस्मासुर” में दुर्गाबाई कामत को अभिनेत्री लिया तथा दुर्गाबाई कामत फ़िल्म में पार्वती का रोल अदा कर भारत की प्रथम अभिनेत्री बनी तथा उनकी सुपुत्री कमलाबाई गोखले ने मोहिनी का रोल निभाया


7. प्रथम रंगीन फ़िल्म: किसन कन्या

सबंधित जानकारी: फ़िल्म जगत में मूक फ़िल्म के बाद बोलती फ़िल्म का निर्माण हो चुका था अगला पायदान था सिनेमा को रंगीन बनाना इसलिए निर्माता अर्देशिर ईरानी ने इस मांग को समझते हुएवर्ष 1937 में पहली रंगीन फ़िल्म “किसन कन्या” का निर्माण किया 137 मिनट की यह फ़िल्म भारत की पहली स्वदेश निर्मित रंगीन फ़िल्म बनी किसानो के जीवन पर आधारित यह फ़िल्म भारतीय सिनेमा जगत के लिए एक मिसाल साबित हुई 10 गानों वाली इस फ़िल्म का निर्देशन मोती बी. गिडवानी ने किया था


8. प्रथम राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार: 10 अक्टूबर 1954

सबंधित जानकारी: प्रथम राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार के आबंटन की शुरूआत वर्ष 1954 में की गई इस का पर्मुख उदेश्य फ़िल्म जगत को बढ़ावा देना था यह पुरस्कार श्रेष्ठ नेर्देशक, अभिनेता, अभिनेत्री, संगीतकार आदि को दिया जाता है


9. भारत की ओर से ऑस्कर के लिए भेजी गई प्रथम फ़िल्म: मदर इण्डिया

सबंधित जानकारी: 25 अक्टूबर 1957 को भारत में प्रदर्शित हुई फ़िल्म "मदर इण्डिया" पहली ऐसी फ़िल्म बनी जो ऑस्कर के लिए नामांकित हुई इस फ़िल्म को बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज फ़िल्म के लिए ऑस्कर नामांकन मिला था मदर इंडिया का निर्देशन महबूब खान ने किया था राष्ट्रिय फ़िल्म पुरस्कार से पुरस्कृत इस फ़िल्म को भारत के इतिहास की सबसे सफल फ़िल्मों में से एक होने का गौरव प्राप्त है


10. प्रथम प्रतिबंधित फ़िल्म: नील आकाशेर नीचे

सबंधित जानकारी: "नील आकाशेर नीचे" एक बांग्ला फ़िल्म है जिस का हिन्दी में अर्थ होता है “नीले आकाश के नीचे” इस फ़िल्म को वर्ष 1959 में प्रदर्शित किया गया था इस फ़िल्म में एक चीनी व्यक्ति वांग लू का सबंध फ़िल्म की अभिनेत्री बसंती से दिखाए गए थे जिस वजह से इस फ़िल्म को राजनितिक विरोध झेलना पड़ा तथा अंतत: भारत सरकार ने इस पर दो वर्ष का प्रतिबन्ध लगा दिया था तथा भारत के इतिहास में “नील आकाशेर नीचे” प्रतिबंधित होने वाली पहली फ़िल्म बन गई


11. प्रथम सिनेमास्कोप फ़िल्म: कागज़ के फूल

सबंधित जानकारी: गुरू दत्त द्वारा निर्देशित फ़िल्म “कागज़ के फूल” भारत की पहली सिनेमास्कोप फ़िल्म थी 148 मिनट लंबी इस फ़िल्म को 2 जनवरी 1959 को प्रदर्शित किया गया था गुरू दत्त ने ही इस फ़िल्म में (सुरेश सिन्हा) की मुख्य भूमिका निभाई थी तथा अभिनेत्री वहीदा रहमान ने (शांति) का रोल अदा किया था


12. प्रथम 70 एम. एम. फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड

सबंधित जानकारी: अंग्रेजी नाम की इस हिन्दी फ़िल्म को भारत की पहली 70 एम. एम. फ़िल्म होने का गौरव प्राप्त है यह एक हास्य प्रेम-प्रसंग फ़िल्म है जो की वर्ष 1967 में प्रदर्शित हुई थी


13. प्रथम दादासाहेब फाल्के पुरस्कार विजेता: देविका रानी

सबंधित जानकारी: एक दशक तक फ़िल्म जगत में देविका रानी चौधरी ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया वर्ष 1930 से वर्ष 1940 का दशक देविका रानी के फ़िल्मी जीवन का शानदार हिस्सा रहा 30 मार्च 1908 को विशाखापटनम में जन्मी देविका रानी ने “कर्मा” नामक फ़िल्म से अभिनय की शुरूआत की जो कि वर्ष 1933 में प्रदर्शित हुई थी देविका के पहले पति हिमांशु राय का उनके अभिनय जीवन में विशेष योगदान रहा


14. प्रथम ऑस्कर विजेता: भानु अथैय्या (बेस्ट कास्टयूम डिज़ाइनर)

सबंधित जानकारी: भानु अथैय्या को 1982 में प्रदर्शित हुई फ़िल्म “गांधी” के लिए ऑस्कर से सम्मानित किया गया तथा यह फ़िल्म उनके जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि साबित हुई भारत, यू.के. तथा यू.एस. में प्रदर्शित हुई “गांधी”फ़िल्म अंग्रेजी भाषा में थी तथा जॉन ब्रिले द्वारा लिखी गई थी


15. प्रथम 3 डी फ़िल्म: माई डिअर कुट्टीचरण

सबंधित जानकारी: मलयालम भाषा में बनी फ़िल्म “माई डिअर कुट्टीचरण”भारत की पहली 3 डी फ़िल्म थी इस फ़िल्म को 24 अगस्त 1984 को प्रदर्शित किया गया था उस समय लगभग 1 करोड़ की लागत से बनी फ़िल्म माई डिअर कुट्टीचरण का निर्देशन जिजो पुन्नूसे ने किया था


16. प्रथम ऑस्कर फॉर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड विजेता: सत्यजीत रे

सबंधित जानकारी: अपने जीवनकाल में लगभग 36 से ज्यादा फ़िल्मों का निर्देशन करने वाले सत्यजीत रे प्रथम भारतीय थे जिन्हें (ऑस्कर फॉर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड) से सम्मानित किया गया सत्यजीत रे की पहली फ़िल्म“पथेर पांचाली” थी तथा पहली रंगीन फ़िल्म “कांचनजंघा” थी


17. प्रथम फ़िल्म निर्माता जिन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया:सत्यजीत रे

सबंधित जानकारी: 2 मई 1921 को कोलकाता में जन्मे सत्यजीत रे को वर्ष 1992 में भारत रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया फ़िल्मी जगत में सत्यजीत रे का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है


18. प्रथम ब्लैक एंड वाइट फ़िल्म जिसे डिज़िटल तकनीक द्वारा रंगीन किया गया: मुगले आज़म

सबंधित जानकारी: मुगले आज़म जिसका हिन्दी में अर्थ होता है “मुगलों का बादशाह” फ़िल्म को 5 अगस्त 1960 को हिन्दी तथा उर्दू भाषा में प्रदर्शित किया गया था इस फ़िल्म का निर्देशन के. आसिफ ने किया था तथा पृथ्वीराज कपूर ने बादशाह अकबर की भूमिका अदा की थी मुगले आज़म को डिज़िटल तकनीक द्वारा रंगीन बनाकर नवम्बर 2004 में पुन: प्रदर्शित किया गया


19. प्रथम हिन्दी फ़िल्म जो यू.एस.ए. में प्रदर्शित तथा स्क्रीनड हुई: लगे रहो मुन्ना भाई

सबंधित जानकारी: महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित फ़िल्म “लगे रहो मुन्ना भाई” इसके प्रथम भाग “मुन्ना भाई एम.बी.बी.एस.” का सीक्वल था 144 मिनट लंबी इस फ़िल्म को 1 सितम्बर 2006 को प्रदर्शित किया गया था गांधीगिरी को प्रसिद्ध करते हुए इस फ़िल्म ने भारी सफलता प्राप्त की थी


20. प्रथम ऑस्कर विजेता संगीत निर्देशक तथा डबल ऑस्कर विजेता: ए. आर. रहमान

सबंधित जानकारी: संगीत के क्षेत्र में सुप्रसिद्ध गायक ए. आर. रहमान को वर्ष 2009 में ऑस्कर से सम्मानित किया गया यह सम्मान उन्हें भारतीय-ब्रिटिश फ़िल्म “स्लमडॉग मिलियनेयर” जो की हिन्दी तथा अंग्रेजी में प्रदर्शित हुई थी,के संगीत में योगदान के लिए दिया गया था


21. प्रथम गवर्नर जनरल: लार्ड विलियम बैंटिक

सबंधित जानकारी: वर्ष 1828 से 1835 तक भारत के गवर्नर जनरल रहे लार्ड विलियम बैंटिक को भारत का प्रथम गवर्नर जनरल होने का गौरव प्राप्त है 1947 में भारत की स्वतंत्रता के कुछ वर्ष बाद ही इस पद को समाप्त कर दिया गया था


22. प्रथम वायसराय (अंतिम गवर्नर जनरल): लार्ड केनिंग

सबंधित जानकारी: लार्ड केनिंग को वर्ष 1858 में भारत का प्रथम वायसराय बनाया गया क्योंकि इसी वर्ष गवर्नर जनरल के पद को एक्ट 1858 के अंतर्गत“वायसराय तथा गवर्नर जनरल ऑफ़ इंडिया” कर दिया गया था


23. भारत का भ्रमण करने वाला प्रथम चीनी यात्री: फाह्यान

सबंधित जानकारी: 5 वीं शताब्दी में एक चीनी यात्री “फाह्यान” ने भारत का भ्रमण किया उस समय चन्द्रगुप्त मौर्या द्वितीय का शासन था इतिहास की जानकारी में फाह्यान के योगदान से उस समय के जीवन यापन, व्यापार,संस्कृति, रहन सहन आदि का अंदाजा लगाया जा सकता है तथा इस बारे में पता चलता है


24. स्वतंत्र भारत का प्रथम तथा अंतिम गवर्नर जनरल: सी. राजगोपालाचारी

सबंधित जानकारी: भारत की स्वतंत्रता के पश्चात 21 जून 1948 को सी. राजगोपालाचारी ने गवर्नर जनरल पद ग्रहण कर कार्यभार सम्भाला तथा दो वर्ष तक इस पद पर अपनी सेवाएं दी राजगोपालाचारी स्वतंत्र भारत के प्रथम तथा अंतिम गवर्नर जनरल बने 26 जनवरी 1950 को गवर्नर जनरल का पद समाप्त कर दिया गया था


25. आई. सी. एस. में सफल होने वाला प्रथम भारतीय: सत्येन्द्र नाथ टैगोर

सबंधित जानकारी: बहुत लंबे समय तक सिर्फ ब्रिटिश अधिकारियों को ही सिविल सेवा की परीक्षाओं में बैठने की अनुमति थी किन्तु वर्ष 1832 में कुछ पदों पर भारतीयों की नियुक्ति करना आरम्भ कर दिया गया जो वर्ष दर वर्ष बढती गई हालांकि इंग्लैंड जाकर किसी ब्रिटिश से परीक्षा में प्रतियोगिता करना इतना आसान नहीं था वर्ष 1862 में सत्येन्द्र नाथ टैगोर तथा इनके मित्र मनमोहन घोष ने परीक्षा में भाग लिया घोष तो परीक्षा में उतीर्ण ना हो सके परन्तु सत्येन्द्र परीक्षा उतीर्ण कर और परीक्षण प्राप्त कर नवम्बर 1864 में भारत लौटे तथा उन्हें बोम्बे प्रेसीडेंसी में नियुक्ति मिली


26. नोबल पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय: रवीन्द्र नाथ टैगोर

सबंधित जानकारी: रवीन्द्र नाथ टैगोर जो कि रवीन्द्र नाथ ठाकुर के नाम से भी जाने जाते है नोबल पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय हैं इन्हें साहित्य में योगदान के लिए वर्ष 1913 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था


27. प्रथम नोबल पुरस्कार विजेता (चिकित्सा शास्त्र): हरगोबिन्द खुराना

सबंधित जानकारी: पंजाब में 9 जनवरी 1922 को जन्मे हरगोबिंद खुराना को चिकित्सा शास्त्र में प्रथम नोबल विजेता के रूप में जाना जाता है यह सम्मान इन्हें वर्ष 1968 में मिला था


28. प्रथम नोबल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक (भौतिकी): सी. वी. रमन

सबंधित जानकारी: वर्ष 1930 में सी. वी. रमन (चंद्रशेखर वेंकट रमन) को नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया यह पुरस्कार उनके भौतिकी में योगदान के लिए दिया गया था इनके द्वारा किए गए महत्वपूर्ण अविष्कारों का नाम रमन के नाम पर ही “रमन प्रभाव” रखा गया वर्ष 1954 में इन्हें भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया


29. स्वतंत्र भारत के प्रथम कमांडर इन चीफ: के. एम. करिअप्पा

सबंधित जानकारी: भारत की स्वतंत्रता के पश्चात 16 जनवरी 1949 को के. एम. करिअप्पा को थल सेना का प्रथम कमांडर इन चीफ नियुक्त किया गया इन्होने इस पद पर चार वर्ष तक सेवा दी के. एम. करिअप्पा (कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा) ने द्वितीय विश्व युद्ध तथा भारत-पाक युद्ध 1947 में अपना योगदान दिया था


30. प्रथम परमवीर चक्र से सम्मानित व्यक्ति: मेजर सोमनाथ शर्मा

सबंधित जानकारी: द्वितीय विश्व युद्ध तथा भारत पाक युद्ध 1947 में भाग लेने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा को प्रथम परम वीर चक्र विजेता होने का गौरव प्राप्त है नवम्बर 1947 को मेजर जम्मू कश्मीर के एक गाँव बड़गाम में लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे


31. अर्थशास्त्र में नोबल पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय: डॉ. अमर्त्य सेन

सबंधित जानकारी: वर्ष 1998 में अमर्त्य सेन को उनके अर्थशास्त्र क्षेत्र में योगदान के लिए नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया एक वर्ष बाद ही भारत सरकार ने भी अमर्त्य सेन को भारत रत्न (1999) से सम्मानित किया भारत मूल के अमर्त्य सेन ने नालंदा विश्वविद्यालय, हार्वड विश्वविद्यालय,यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैंब्रिज जैसे विश्व प्रसिद्ध संस्थानों में अपनी सेवाएं दी


32. स्टालिन पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय: सैफुद्दीन किचलू

सबंधित जानकारी: सैफुद्दीन किचलू को स्टालिन शांति पुरस्कार से वर्ष 1952 में सम्मानित किया गया (ध्यान दें: वर्ष 1957 में स्टालिन पुरस्कार का नाम बदलकर “लेनिन पुरस्कार” कर दिया गया था, यह एक अंतराष्ट्रीय स्तर शान्ति पुरस्कार है) अमृतसर, पंजाब में जन्मे सैफुद्दीन किचलू एक आज़ादी के लिए लड़ने वाले क्रांतिकारी तथा राजनेता थे


33. भारत रत्न से सम्मानित प्रथम भारतीय: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

सबंधित जानकारी: भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति तथा द्वितीय राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को वर्ष 1954 में भारत को सर्वोतम पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मनित किया गया डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के शिक्षा क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए उनके जन्मदिवस को हर वर्ष “अध्यापक दिवस” (5 सितम्बर) के रूप में मनाया जाता है


34. अंतराष्ट्रीय न्यायालय में प्रथम भारतीय न्यायाधीश: डॉ. नगेन्द्र सिंह

सबंधित जानकारी: 1985 से 1988 तक “इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस” में अपनी सेवाएं देने वाले डॉ. नगेन्द्र सिंह को अंतराष्ट्रीय न्यायालय में प्रथम भारतीय न्यायाधीश होने का गौरव प्राप्त है


35. प्रथम उप-राष्ट्रपति: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

सबंधित जानकारी: 13 मई 1952 को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति के पद पर नियुक्त हुए दस वर्ष तक इस पद पर अपनी सेवाएं देने के बाद वर्ष 1967 में इस पद से निवृत हुए तथा भारत के द्वितीय राष्ट्रपति बने इनके बाद उपराष्ट्रपति का सम्मानीय पद जाकिर हुसैन ने संभाला

No comments: